Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

१३ नोव्हेंबर, २००९

सूरों का साधक : चंद्रशेखर बाजोरीया
















मित्रता कब होंगी । कैसे होंगी, जीवन के किस मोड पर होगी, कहा नही जा सकता । कभी कभी कोई व्यक्ति आपके जीवन मे इस तरह प्रवेश कर जाता है कि वह तुम्हारे जीवन का आभन्न अंग बन जाता है ।
इसी तरह एक मुलाकात हुई सुधाकर कदम से । भाग्योदय ऑर्केस्ट्रा में अकॉर्डीअन बजाते देखा था, बादमे मुलाकात हुई एक शास्त्रीय संगीत सभा में । मालुम पडा इनका रुझान अब लाईट म्युझिक से शास्त्रीय संगीत की ओर मुड गया है और अपने शास्त्रीय संगीत मे संगीत विशारद की उपाधी भी प्राप्त कर ली है ।
यही से हमारी मैत्री बढने लगी । साथ में जुड गये स्व़ श्री शेखर सरोदे, प्रा़.विनायक भीसे । संगीत की बैठके होने लगी । इन्ही बैठकों मे मुझे सुधाकर के बारे में काफी कुछ जानने को मिला ।
सुधाकर कभी दकीयानुसी विचारो का नही रहा । उसने शास्त्रीय संगीत की तपस्या की तो लाईट म्युझीक को पूजा भी है । गायन मे महारथ हासील करने की कोशीश की तो वाद्य यंत्रों से खेला भी है । खुद के संगीत के रीयाज के साथ दूसरो को भी संगीत की शिक्षा देने की कोशिश की है ।
इस संगीत का सफर तय करने में उसे कितनी मुश्कीलों का सामना करना पडा मै जानता हूँ।
चांदेकर परिवार की कन्या से प्रेम विवाह करने के बाद पारीवारिक जीम्मेवारी, आर्थिक समस्या सामने खडी थी । यवतमाल में कहीं नौकरी उपलब्ध न थी अंत मे समझोता कर आर्णी जैसे छोटे से गॉंव मे संगीत शिक्षक की नौकरी कर ली ।
आर्णी में कोई संगीत का मार्गदर्शक नही । कुछ करने की तमन्ना मनमें है । पर किसी का प्रोत्साहन नही । आजकल कला के क्षेत्र में भी उँचाइयों को छूने के लिये किंग मेकर की जरुरत होती है । वो भी उपलब्ध नही ।
अंत में एकलव्य का ही सिध्दांत अपनाकर पंडीत जसराजजी को प्रेरणा स्त्रोत बनाकर आर्णी मे ही रियाज शुरु किया । उस वक्त गजल का दौर शुरु हो चुका था । गुलाम अली, मेहदी हसन, पंकज उधास, अनुप जलोटा इनका नाम शीर्षस्थ पर चल रहा था । उसी वक्त सुधाकर कदम मराठी के शीर्षस्थ कवि श्री सुरेशजी भट के संपर्क में आये और उनकी लिखी हुई मराठी की गजलो को संगीत में ढाला ।
मुझे याद है वह रात जब शायद पहली बार सुधाकर कदम ने यवतमाल जूनिअर चेंबर्स के तत्वावधान में मराठी के गजलों का कार्यक्रम स्थानीय टाऊन हॉल मे दिया था । रसिक वृंद झूम उठे थे । शायद यवतमाल के रसिको को पहली बार आभास हुआ कि यवतमाल में एक इतना अच्छा कलाकार है । उसी वर्ष इन्हे भारतीय जुनिअर चेंबर ने महाराष्ट्र के दस सर्वोत्कृष्ट युवकों में से एक का पुरस्कार दिया । संपूर्ण महाराष्ट्र में सुधाकर कदम के मराठी गजलों के कार्यक्रम हुए, सराहें गये ।
इन्ही व्यस्तताओं के बावजुद आर्णी में गांधर्व संगीत विद्यालय की स्थापना की । कई विद्यार्थीयों को संगीत की शिक्षा दी । आर्णी मे हर वर्ष कलाकारों के लिये प्रतियोगिता आयोजीत की उन्हे पुरस्कृत किया ।
एक खास बात देखी, वो सिर्फ खुद के लिये नही जीता बल्की संगीत के लिये जीता है, सूरों के लिए जीता है ।

गझलकडे वळा ! - भालचंद्र नेमाडे

‘‘सध्या मुक्तछंदाच्या वापराने मराठी कवितेला दारिद्र्य आले आहे. म्हणूनच एकाचवेळी विविध विषय समर्थपणे पोहोचवणा-या व वृत्तसौंदर्याने नटलेल्या गझल प्रकाराचा स्वीकार-अंगिकार मराठी भाषेला आवश्यकच ठरणार आहे’’ - असे उद्गार सुप्रसिद्ध साहित्यिक भालचंद्र नेमाडे यांनी मुंबई विद्यापीठात गझल प्रकारावर झालेल्या परिसंवादाच्या अध्यक्षपदावरून काढले. (वृत्त - महाराष्ट्र टाइम्स, दि.७-४-२००४)

Ghazal in English :


English
- Chandrani Chatterjee / Milind Malshe

डॉ.श्रीकृष्ण राऊत : गझल सादर करताना

तुझ्या गुलाबी ओठांवरती : रफिक शेख

नामवंत सिने दिग्दर्शक राजदत्तजी ‘गझलकार’ सीमोल्लंघन विशेषांकाबद्दल बोलताना :

प्रख्यात समाज सेविका सिंधुताई सपकाळ

प्रख्यात समाज सेविका सिंधुताई सपकाळ
सीमोल्लंघन २०११ चे प्रकाशन करताना

  © Blogger templates Newspaper III by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP